Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams

6 months ago 9.9K Views
jTXLvideom.webp

Today I am providing Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams. You can easily get 2-3 marks with the help of Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams. This post of Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams is very important also related to  Directive Principles and Fundamental Duties


Here’s a blog of Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams.  As you know Constitutional Provisions of Indian President is the very useful topic for Competitive Exams as like Functions of Central Government of India.



So, Do Practice Function of Central Government and Indian President for Competitive Exams.


Hello student,

This video is related to Constitutional Provisions of Indian President. In this video, I have explained the power and emergency power of Indian President. I have explained all articles related to Constitutional Provisions of Indian President according to our Indian Constitution. This tutorial video is very useful for IAS, RAS, UPSC, RPSC, SSC and all other types of competitive examination. 


Bharatiya Samvidhan (Bhartiya Rashtrapati ke sanvaidhaanik tatv) in Hindi.Indian Constitution (Indian President) in Hindi

Watch part 7 at https://www.youtube.com/watch?v=Constitutional Provisions of Indian President(Indian President)



राष्ट्रपति से सम्बंधित संवैधानिक प्रावधान

अनुच्छेद: 52 राष्ट्रपति का पद

अनुच्छेद: 53 राष्ट्रपति की कार्यपालिका

संध की कार्यपालिका शक्ति राष्ट्रपति में निहित होगी, राष्ट्रपति स्वयं या अधीनस्थ अधिकारियों द्वारा इसका उपयोग करेगा |

राष्ट्रपति भारत का राष्ट्र प्रमुख/राज्य प्रमुख हैं | अत: वह नाममात्र का प्रधान हैं |

अनुच्छेद: 54 राष्ट्रपति का निर्वाचक मंडल

निर्वाचक मंडल में तीन प्रकार के सदस्य होते हैं |

1.संसद के सभी निर्वाचित सदस्य (543 + 233 = 776)

2.सभी राज्य विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य (29 राज्य विधानसभाएँ जिनमें कुल 4020 विधायक हैं)

3.दिल्ली और पांडेचेरी विधानसभाओं के सभी निर्वाचित सदस्य (कुल 100 विधायक)

70 वें संविधान संशोधन 1992 की धारा-2 द्वारा एक जून 1995 को दिल्ली और पांडेचेरी के विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्यों को राष्ट्रपति निर्वाचक मंडल में शामिल किया गया |

अनुच्छेद: 55 निर्वाचन की पद्धति;आनुपातिक प्रतिनिधित्व की एकल स्क्रन्मनीय मत प्रणाली

इसमें मैन मूल्य की गणना होती हैं |

विधायक का मत मूल्य निकालने का सूत्र

राज्य की विधानसभा

राज्य विधानसभा के निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्या X 1 /1000

संसद सदस्य का मत मूल्य निकालने का सूत्र

सभी विधायकों का कुल मत मूल्य

संसद के निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्या

मत मूल्य निकालने का आधार 1971 की जनगणना हैं (2026 तक लागू)

84 वें संविधान संशोधन 2001 द्वारा लागू |

विजयी होने के लिय न्यूनतम कोटा प्राप्त करना आवश्यक हैं |

कोटा निकालने का सूत्र = v + 1

                                                    S + 1

V =  कुल वैध मत मूल्य

S = स्थान (1)

प्रथम वरीयता की गणना पर यदि कोई उम्मीदवार कोटा प्राप्त नहीं करता हैं तो न्यूनतम मत मूल्य वाले मुमिद्वार को बाहर कर उसके वोट की दूसरी वरीयता की गणना की जाती हैं |

 

Showing page 1 of 4

    Choose from these tabs.

    You may also like

    About author

    Rajesh Bhatia

    This is Rajesh Bhatia. He has been teaching to the students for preparing for competitive exams for 10 years. Talk to him about your problems by connecting social media. Like him on Facebook: https://www.facebook.com/examsbook

    Read more articles

      Report Error : Constitutional Provisions of Indian President for Competitive Exams

    Please Enter Message
    Error Reported Successfully